आई डब्लू एम बज्ज़ ने कलर्स के शो केसरी नंदन जो कंतिलोए द्वारा प्रोड्यूस की समीक्षा की

टीवी का वातावरण अभी केवल डायन और चुड़ैल की कहनियो से भरा हुआ है, वहा पर मानवीय कहानियां देखना एक राहत है।

कलर्स आमिर खान की सुपर हिट मूवी दंगल को दोहराने का प्रयास कर रहा है, अपने नए शो केसरी नंदन जो ८.३० बजे प्रसारित होता है उससे। जहा उन्होंने परिवारिक चीज़े (सौतेला भाई और बीवी) को जोड़ दिया है, और भी कई टीवी की आवश्यक चीजों को जोड़ दिया है।

पहला बदलाव है सेटिंग। अगर आमिर खान के किरदार ने हरयाणवी में बात की है तो हनुमंत सिंह (मानव गोहिल) पूरे राजस्थानी भाषा में बात करते है। पूरी संस्कृति कपड़े और तरीके सब में बदलाव है। यह विशाल विविधता भारत की आगे बढ़ने की ताकत होगी, अगर आप संकीर्ण, क्षेत्रीय विचारो से बच सकते है।

एक सामान्य टीवी फंडे का हिस्सा, हनुमंत सिंह से शुरुआत करते है। हनुमंत सिंह एक शक्तिशाली व्यक्ति दिखाया गया है – उन्हें एक प्रतिद्वंद्वी को हराते हुए दिखाया गया, बावजूद उस प्रतिद्वंद्वी के उनके हाथ पर इंजेक्शन देने के बाद भी। हनुमंत फिर कुश्ती से रिटायर हो जाते है, आशा करते हुए की अब उनका बेटा जगत (बड़े हो कर शोएब) एक दिन खेल में उनका उत्तराधिकारी बनेगा। लेकिन उत्सव के दौरान जगत को गोली लग जाती है।

एसी कई घटनाएं असल जीवन में भी हुई है; उम्मीद है सरकार इस बल के ऐसे अनावश्यक प्रदर्शन को बंद करवा दे।

दिलचस्प की बात यह है कि मानव को वास्तव में इस भूमिका के लिए तैयार नहीं किया गया है। आम तौर पर, पहलवान अच्छी तरह से निर्मित होते हैं, सहमत; आमिर नहीं थे, लेकिन वे आमिर हैं। जैसा कि हमने कहा, मानव इस किरदार के लिए सर्वश्रेष्ठ टीवी अभिनेता थे, बड्डी प्रोजेक्ट में एक कॉच के किरदार के बाद। ये टीवी के उन भाग्यशाली अभिनेता में से है जिन्हे इस उम्र में लीड किरदार मिला है; उनकी उम्र के अधिकांश कलाकार पिता का किरदार निभाते हैं।

आस्था चौधरी भी बड़े लंबे समय के ब्रेक के बाद टीवी पर वापस अाई है (आखरी बार उन्हें रिश्तों के भंवर में उलझी नियति में देखा गया था) हनुमंत की प्यारी संस्कारी बीवी माधवी और केसरी की माँ के रूप में। हालाकि वो कई दृश्यों में नजर आ रही है, उन्हें अभी और पेशकेश करनी है। हमें यकीन है कि यह बदल जाएगा, जैसा कि आस्था के पास आवश्यक एक्टिंग गुण है, याद है बाबुल का अंगान छूटे ना में उनका किरदार। उन्होंने अपने काम में जरूर कटौती की है।

जगत के साथ हुई घटना के बाद उसके इलाज में हनुमंत खूब का धन लग गया। यहां पर उनके सौतेले भाई, जोरावर (अंकित अरोरा) प्रवेश होता है, और साहूकार से उनकी अखाडे की जमीन छीनने में सहयोग करता है। जोरावर और उनकी पत्नी बिजली (रेशमा शिंदे) ने हनुमंत और माधवी से छुटकारा पाने के लिए पहले भी कोशिश की थी।

आस्था जो इस दुर्घटना के दौरान गर्भवती थी, उन्हें अपना बच्चा जो कि केसरी है उसे किसी और को देखभाल करने के लिए देने पर मजबूर होना पड़ता है, हनुमंत के लिए जिसे चाहिए कि सभी परिवार वाले जगत के ठीक होने पर ध्यान दें। दुख की बात है कि आज ही भारत के कुछ गाव में अभी भी लड़को को लड़कियों के ऊपर माना जाता है। वो दृश्य जहा केसरी गुड़िया के बदले स्कूल जाने की मांग करती है वो एक सिख है।

छोटी केसरी (चाहत तीवानी) शो की जान है। उसकी मासूमियत हमारे चेहरे पर मुस्कान ला देती है। अपने पिता की तरह उसे भी शक्तिशाली दिखाया गया है जहा वो मूर्ति के मुकुट को पक्षी से वापस लेकर आती है। केसरी भी कुश्ती से प्यार करती है, उसके पास ना केवल आवश्यक शारीरिक क्षमता है बल्कि मानसिक ताकत भी है, जो एक को अंत तक ले जाता है।

वो अपने बड़े भाई को भी मुकाबले में हरा देती है। ये देखना दिलचस्प होगा कि कैसे जगत खेल से बाहर होता है और केसरी कदम आगे बढ़ाती है हनुमंत के सपनों को पूरा करने में को भारत के लिए मेडल लाना है। रेटिंग्स निश्चित करेंगे की सीरियल में लीप कब लिया जाएगा। अगर छोटी केसरी को काफी अच्छे रेटिंग्स मिले तो आप सभी को बड़ी केसरी को देखने के लिए काफी इंतजार करना होगा खेल के अंत को देखने के लिए। टीम को पूर्ण अंक शुरुआती एपिसोड को एक घंटे प्रसारित करने के लिए। कंतिलोए पिक्चर्स अभी दुगनी नंबर के एपिसोड दे रहा है। ये प्रभावी ढंग से प्रबंधित किया जा सकता है अगर एपिसोड को प्रसारित होने से पूर्व अच्छी संख्या में रखा जाए, लेकिन कई चैनल इससे बचते है, टीआरपी के बदलाव के दर से कहीं वो अनुपयोगी ना हो जाए।

अंकित अरोरा बुरे इंसान का किरदार काफी अच्छे से निभा रहे है। दूसरे सह अभिनेता भी काफी अच्छे है। एक दोष था – कॉस्ट कटिंग के प्रायास में, ग्रामीण राजस्थान के कई दृश्य नहीं थे, ऊंट से भरे हुए, जो इस देसी खेल कुश्ती में और सुंदरता जोड़ देता। शूट को जल्द ही मुंबई में दिखा दिया गया।

कलर्स अभी कठिन समय से जा रहा है। ना केवल बिग बॉस नाकामयाब रहा, उसके बदले के शो के नंबर में भी खास बढ़ाव नहीं देखा गया। इस सब को देखते हुए इस शो केसरी नंदन से उन्हें काफी उम्मीदें है। केसरी नंदन के पास सफल होने के लिए काफी वजह है – अच्छी कहानी, महिलाओं के सशक्तिकरण का मुद्दा, आदि। फिर भी, रेटिंग एक ऐसी चीज है जिसके बारे में कोई कुछ नहीं कह सकता है। दिन के अंत में, हम केवल इसका अनुमान लगा सकते हैं कि आगे कुछ मैजिक होगा।

हम आई डब्लू एम बज्ज़ पर केसरी नंदन को ५ में से ३.५ स्टार से रेट करते है।

  • share
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
  • google-plus
  • google-plus
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
11

Comments

लेटेस्ट स्टोरीज