आई डब्लू एम बज्ज.कॉम ने ऑल्ट बालाजी के सीरीज एमओएम की समीक्षा की। पढ़िए।

ऑल्ट बालाजी की शेड्यूलिंग टीम को कुडोस अपनी नई अंतरिक्ष मिशन सीरीज, एमओएम (मिशन ओवर मार्स) को लॉन्च करने के लिए, उस समय जब हर कोई भारत के हालिया चंद्रमा मिशन (चंद्रयान 2) के बारे में बात कर रहा है। इस जिज्ञासा को नंबर्स को बढ़ावा देना चाहिए, जो ऑल्ट और अधिकांश ओटीटी प्लेयर्स को इतनी बुरी तरह से चाहिए।

जैसा कि चंद्रमा मिशन के साथ था, जहां महिला वैज्ञानिकों के हाथ इसकी की थी, यहां भी कहानी 4 महिला पात्रों कि है, जो एक दूसरे से काफी अलग हैं, लेकिन मंगल ग्रह पर चीनियों को हराने का बस एक ही सामान्य इच्छा उन्हें एक साथ रखता है।

साक्षी तंवर को हेल्लो जो मिशन कोऑर्डिनेटर नंदिता हरिप्रसाद के रूप में है, जो इंजीनियरिंग से अधिक क्रिकेट के लिए अपने बेटे के प्यार के बारे में चिंतित हैं। यहां तक ​​कि वह अपने फोन को क्लोन रखती है ताकि वह सब जान सके।

बंगाली साइंटिस्ट मौशमी घोष (मोना सिंह) अपने इससे पहले के असफलता को सही करना चाहती है(इसी थीम के समान फिल्म मिशन मंगल की विद्या बालन)। लेकिन यह वो अपना मुंह बंद नहीं रख सकती है।

सीरीज अपने विज्ञान और प्रौद्योगिकी के प्रति हमारी स्थापना के रवैये पर भी कटाक्ष करती है। सदियों पुरानी प्रासंगिकता का मुद्दा (दिल्ली में बाढ़ वर्सस मंगल पर जाने) कई चीजों के खुलने से बचने के लिए ध्यान नहीं दिया गया है। यह भी दिखाया गया है कि राजनीतिक विचार समय रेखाओं को कैसे बदलते हैं।

क्या मौशमी का दावा था कि उसका विफल मिशन विक्रम लैंडिंग फैलियर के सहयोग के लिए ग्यारवें आर में जोड़ा गया अधिकांश पैरामीटर्स को पूरा करता है? वह अपने साइंटिस्ट पति मयंक (पूर्णेन्दु भट्टाचार्य) के साथ अपनी बेटी के कस्टडी के लिए लड़ रही है। उनके ईगो समस्या मजेदार है। उनका वो लाइन की उनके पास साथ काम करने वालों के साथ रोमांस करने का समय नहीं है उसकी जरूरत नहीं थी।

चाइनीज फोन और उनके सैटलाइट की असफलता के बारे में मजाक, काफी स्मार्ट राइटिंग है। लेकिन हम फिर भी चाइनीज गुड्स खरीदते है।

ज्योतिष-पागल वैज्ञानिक नीतू सिन्हा (निधि सिंह) चाहती हैं कि रॉकेट मिशन स्थगित कर दिया जाए क्योंकि लॉन्च की तारीख अशुभ है। उन्होंने मिशन मंगल के निथ्या मेनन के गर्भावस्था के टेम्पलेट का भी पालन नहीं किया, क्योंकि इससे उसके मिशन पर असर पड़ेगा। उनका यह कहना कि क्या महिलाएं दोनों नहीं चाह सकती है ऐसा सवाल हा जो लाखों करियर-उन्मुख महिलाएं रोजाना पूछती हैं।

पलोमी घोष जो मेगन का किरदार निभा रही है, एक गीकि साइंटिस्ट उनके कई क्विर्कस के साथ।

मेगन एक डेट पर गलत तरह से बटन की हुई शर्ट के साथ जाती है।  वह एक अच्छे आदमी को भी ठुकरा देती है क्योंकि उसका दिमाग साइंटिस्ट बेंट नहीं होता है।  हुक-अप साइट पर जाने के लिए नीतू उन्हें मना कर है।

एमओएम में ताजा करने वाला बदलाव देखा गया है सभी सीरीज से काफी अलग और वो थी न्यूडिटी की अनुपस्थिति।

इसकी साइंटिफिक कम्युनिटी सेटिंग काफी अच्छी थी।

डायरेक्टर विनय वाईकुल ने कहानी को काफी तेजी से आगे बढ़ाया है। लेकिन कभी कभी, मुझे लगता है कि यह काफी बड़ा है।

वेब सच में टीवी एक्टर्स को वह किरदार दे रहा है जिसकी वह हकदार है। मौशमी ये स्वीकार करती है कि हो सकता है वो अच्छी मा नहीं हो।

साक्षी ने भी एक साइंटिस्ट का किरदार और एक माता का किरदार बहुत अच्छे से निभाया है। और निधि और पलॉमी ने भी बहुत सुंदर तरह से अपना किरदार निभाया है। निधि का किरदार बहुत ही शानदार था।

मेल एक्टर्स एसा लग रहा है को रह गए। क्या वेब टीवी की टेम्प्लेट को फॉलो कर रहा है ?

आशीष विद्यार्थी ने अपना प्रोत्साहन देने वाले बॉस, के मुरलीधरन, जो अपने टीम का सहयोग करते है, उनका किरदार अच्छे से निभाया है। वो लाइन की इसरो पूरी इंडिया के लिए काम करता है उसे सुनकर गर्व हुआ।

विनायक मोहंती (चितरंजन त्रिपाठी) को मिशन से ज्यादा छुट्टी की फ़िक्र है। और बिग बॉस शरद गोखले (मोहन जोशी) को मून मिशन कमर्शियल फायदा की तरह देखना है।

हमे पहले 3 एपिसोड दिखाए गए जिस पर हमने अपनी समीक्षा दी है।

लेकिन क्या यह तथ्य नहीं है कि यह मिशन मंगल की में फतिग फैक्टर नहीं है?  वेब दर्शकों को उनका ध्यान आकर्षित करने के लिए चौंकने की जरूरत है।  यह नाटक, हालांकि, आकर्षक है, सिनेमा घरों में लाखों लोगों ने देखा है।

क्या विक्रम लैंडर की विफलता कुछ को बंद कर देगी, क्योंकि कोई भी मिस स्टेप्स को याद नहीं करना पसंद करता है

आई डब्लू एम बज्ज.कॉम इसे 3.5 रेटिंग देता है।

  • share
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
  • google-plus
  • google-plus

Comments

लेटेस्ट स्टोरीज