आज कल डिजिटल मीडिया में अपने अभिनय से प्रशंसकों का उल्हास बढ़ा रहे है पंकज त्रिपाठी

पंकज त्रिपाठी का पसंदीदा किरदार: मिर्ज़ापुर या सैक्रेड गेम्स

आज कल युवाओं में पंकज त्रिपाठी की वेबसेरिएस को अत्यंत प्यार मिल रहा है। पंकज जी की शुरुवात भले ही हुई हो बहुत छोटे क़िरदार रन फ़िल्म से लेकिन कहते है ना भगवान के घर देर है पर अंधेर नहीं उन्हें उस वक़्त बहुत ही छोटे किरदार को निभाना पड़ता था लेकिन आज वे वेबसेरिएस में एहम किरदार के रूप में नज़र आ रहे है। पंकज जी ने अब तक कही सारी फिल्में की पर उन्हें गैंग्स ऑफ वस्सेयपुर में सुल्तान कुरेशी बनकर कहियो के दिलों में बस गए।

पंकज जी ने में मिर्ज़ापुर और सेक्रेड गेम्स 2 जैसी मशहूर और लोकप्रिय वेबसेरिएस में काम किया है। मिर्जापुर एक क्राइम थ्रीलर है जो कि एक्सेल एंटरटेनमेंट के अंतर्गत प्रस्तुत हुआ है। इस कहानी में बहुत सारी गोलियां ड्रग्स अफीम को दर्शाया है। लोगो मे यह बहुत ही प्रचलित हो गयी और पंकज त्रिपाठी का किरदार अखंडानंद उर्फ कालीन भैया अपने हास्य व्यंग्य से जोरदार डायलॉग्स से लोगों के दिलों में अपनी जगह बना दी।

पंकज जी कहते है कि उन्हें ड्रामा यानी स्वांग अच्छा लगता है परंतु मैलौ ड्रामा नहीं पसंद जो अत्यंत उत्तेजित रूप सर खूब सारी भावुकता से जुड़ी हो उन्हें ऐसे किरदार अच्छे लगते है निभाने जो हो हमारी आम ज़िन्दगी से जुड़े।
वे अपने कालीन भैया के किरदार के बारे में कहते है कि कालीन भैया का किरदार कठोर ज़रूर था परंतु व्यंग्य था उसमें ,उनके लिए कुछ नया नहीं था यह किरदार ये किरदार अप्रत्याशित,तरंगी और बेहद बारीकी वाला किरदार है जो कि मेल खाता था उनके गैंग्स ऑफ वस्सेयपुर के सुलतान कुरेशी से। वे कहते है कि उन्होंने कूछ ज्यादा अभ्यास नही किया था वे चाहते थे कि यह क़िरदार ऐसे ही आवेगात्मक रूप में निखरके आए।

सेक्रेड गेम्स 2 की अगर बात करे तो ये एक थ्रिलर वेबसेरिएस है 2006 में विक्रम चंद्रा के उपनियास से यह नाम लिया गया है। यह एक साजिश, राज़ और थ्रिलर से जुड़ी मज़ेदार कहानी है। सेक्रेड गेम 2 में कहानी का मुख्य किरदार गुरुजी पर निर्धारित है जिन्हें लाखों लोग बहुत मानते है और जिसे ये लगता है कि उनके विचार सबसे उच्च है और सभी को पालन भी करना चाहिए। वे कहते है कि उनके लिए यह बहुत ही मुश्किक भाग था क्योंकि कभी उन्होंने कीड़ी गुरु से आज तक बात नही की कैसे कर पाएंगे वो। लेकिन हम सब जानते ही है कि कैसे हमें गुरु जी ने अपने अभिनय के मायाजाल में फसा लिया।

उनके दोनों किरदार बहुत ही अलैह सुर अनोखे थे उन्होंने बहुत ही एक अलग तरह का किरदार अपने हर फिल्म और वेबसेरिएस में हमारे समक्ष रखा है। अब यह बताना तो बेहद मुश्किक है कि कौनसा किरदार सबसे बढ़िया है।
लेकिन आप ज़रूर बतायें कौनसा किरदार आपको पसंद आया।

ऐसी ही मज़ेदार ख़बरों के लिए जुड़े रहे हमारे साथ IWMBuzz.com पर।

Also Read

Latest stories